Very Sad Shayari

जिसकी किस्मत
मे हों ज़माने की ठोकरें,

उस बदनसीब से सहारों ना की बात  करो 

Jiski kismat Mein Hon Zamane Ki Thhokarein,
Uss Badnasib Se Na Sahaaron Ki Baat Karo.

इश्क की हमारे बस इतनी सी कहानी है,
तुम बिछड गए हम बिख़र गए,
तुम मिले नहीं और…
हम किसी और के हुए नही।

Ishq Ki Hamare Bas Itni Si Kahani Hai,
Tum Bichhad Gaye Ham Bikhar Gaye,
Tum Mile Nahin Aur…
Ham Kisi Aur Ke Huye Nahi.

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.