Kum Kum Bhagya Shayari

Kabhi kabhi aankho mai aasu hote hue bhi bolna pdta hai ,
I am Fine..!!

कभी कभी आँखों में आँसू होते हुए भी बोलना पड़ता है
आई ऍम फाइन !!

Jada gussa krne wale log aksar,
Aapki fikar bhi bahut krte hai..!!

ज्यादा गुस्सा करने वाले लोग अक्सर
आपकी फ़िक्र भी बहुत करते है

Shauq se karo mohabbat, magar yaad rakha,
Kisi kaam ke nahi rahoge bichandne ke baad..!!

शौक़ से करो मोहबत, मगर याद रखना
किसी काम के नहीं रहोगे बिछड़ने के बाद

Dil mein ek baat hai ajj tumhe batate hai
hum tumhe apni jaan se bhi jada chahte hai..!!

दिल में एक बात है आज तुम्हे बताते है
हम तुम्हे अपनी जान से भी ज्यादा चाहते है

Ye jo tum kehte rehte ho na ki khush raha karo
Toh phir sun lo hamesha mere pass raha karo..!!

ये जो तुम कहते रहते हो ना की खुश रहा करो
तो फिर सुन लो हमेशा मेरे पास रहा करो

Mere gusse ki wajah se naraz mat hona,
Hum gussa bahar se aur Pyaar dil sai karte hai..

मेरे गुस्से की वजह से नाराज़ मत होना
हम गुस्सा बहार से और प्यार दिल से करते है

Kabhi kabhi hum bina galti ke bhi sorry mang lete hai,
Taki tum mujhse naraz na ho..!!

कभी कभी हम बिना गलती के भी सॉरी मांग लेते है
ताकि तुम मुझसे नाराज़ ना हो

Ek baat bolu tumhe naraz mat hona,
Tumhare bin mar sakta hu par jee nahi skta..!!!

एक बात बोलू तुम्हे नाराज़ मत होना
तुम्हारे बिन मर सकता हूँ पर जी नहीं सकता


Social Share Buttons and Icons powered by Ultimatelysocial
Pinterest
Linkedln
Instagram