ALONE SHAYARI

Aa Gayi Thi ek Din Tanhai Bhi Jazbaat Mein….!!
Aankh Sai Bhi Chand Boondein Gir Padi Barsaat Mein….!!

आ गयी थी एक दिन तन्हाये भी जज़्बात में….!!
आँख सही भी चाँद बूँदें गिर पड़ी बरसात में….!!


Mere Marne pe sub khush hoge”jaan”;
Bs ek tanhai royegi ki mera humsafar chala gaya

मेरे मरने पे सब खुश होगे”जान”;
बस एक तन्हाई रोएगी की मेरा हमसफ़र चला गया


Chhor diya humne uska interzaar karna hamesha ke liye….
Jisko humari nigah ki Qadar na ho use mud mud ke kya dekhna.

छोड़ दिया हमने उसका इंतज़ार करना हमेशा के लिए….
जिसको हमारी निगाह की क़दर न हो उसे मुड़ मुड़ के क्या देखना…!!


Main din ko kahu raat to ikraar kare .
Bas hasrat yhi h ki koi hume yuhi pyar kare..

मैं दिन को कहु रात तो इकरार करे .
बस हसरत यही है की कोई हमे यही प्यार करे..!!


Mera Aur Uss Chaand Ka Muqaddar Ek Jaisa Hai,
Woh Taaron Mein Tanha Main Hazaro Mein Tanha.

मेरा और उस चाँद का मुक़द्दर एक जैसा है,
वह तारों में तनहा मैं हजारों में तनहा….!!


Zindagi Ki Raahon par,
Kabhi Yun Bhi Hota Hai,
Jab Insaan Khud Ro Padta,
Hai Akele Mein….,!!

ज़िन्दगी की राहों पर कभी यूँ भी होता है,
जब इंसान खुद रो पड़ता है अकेले में….!!


Kaash!! Bachpan me hi maang leta Tumhe..!!
Kynki Tab har cheez mil jaati thi Do aansoo Bahane se…!!

काश!! बच्चपन में ही मांग लेता तुम्हे..!!
क्योंकि तब हर चीज़ मिल जाती थी दो आँसू बहाने से…!!


Raat ki Tanhayion mein Bechain hain hum,
Mehfil jmi hai phir bhi akele hain hum,
Aap humse pyaar karein ya na karein,
par aapke bina bilkul adhoore hain hum…!!

रात की तन्हाइयों में बेचैन हैं,
हम, महफ़िल जमी है फिर भी अकेले हैं
हम,आप हमसे प्यार करें या न करें,
पर आपके बिना बिलकुल अधूरे हैं हम…!!


Na Jane Kyun Khud Ko Akela Sa Paya Hai,
Har Ek Rishte Me Khud Ko Gawaya Hai,
Shayad Koi Toh Kami Hai Mere Wajood Mein,
Tabhi Har Kisi Ne Humein Yuh Hi Thukraya Hai!!

ना जानें क्यूँ ख़ुद को अकेला सा पाया ह।
हर एक रिश्ते में ख़ुद को गवाया है।
शायद कोई तो कमी है मेरे वजूद मे।
तभी हर किसी ने हमें युही ठुकराया है!!


Mujh say kehti hai tere sath rahoongi..!!
Bhot  pyar krti hai mujhsey udasi meri…!!

मुझ से कहती है तेरे साथ रहूंगी..!!
बहुत प्यार करती है मुझसे उदासी में…!!


Apni bebasi par aaj rona sa aaya,
Doosron ko nahi maine apno ko Aazmaaya,
Har dost ki tanhaayi door ki Lekin,
khud ko har mod par tanha hi paya..!!!!

अपनी बेबसी पर आज सा आया,
दूसरों को नहीं मैंने अपनों को आज़माया, 
हर दोस्त की तनहाई दूर की लेकिन,
खुद को हर मोड़ पर तनहा ही पाया..!!!!

Social Share Buttons and Icons powered by Ultimatelysocial
Pinterest
Linkedln
Instagram