AANSOO SHAYARI

In aansu ki keemat tumhe malum na hogi …
Saza jo tumne di ye kabhi maaf na hogi …

इन आंसु की कीमत तुम्हे मालूम ना होग।
सजा जो तुमने दी ये कभी माफ़ ना होगी।


Aansoo nikal jaate hain mere bhi barsaat mein…
Jab-Jab yaad aati hain teri aisi bheegi bheegi raat mein…

आंसु निकल जाते है मेरे भी बरसात में
जब जब याद आती है तेरी ऐसी भिगी भिगी रात में


Mein khush hu mere aansu to kam se kam mere hain…
Varna logo ne hamari har khushi chheenne mein koi kasar na chori…

में खुश हूँ मेरे आंसू तो कम से कम मेरे हैं
वरना लोगो ने हमारी हर ख़ुशी छींनने मैं कोई कसर ना छोड़ी


Aansoo ko rok to lete, Per jab jab teri yaad aati hain…
Meri ijazat nahi lete yein…

ऑंसू को रोक तो लेते , पर जब जब तेरी याद आती हैं
मेरी इजाज़त नहीं लेते ये।


Jab jab tujhe dekhti hu …
Meri aankho se aansu beh jaate hain …
Ye kehna to bahut kuch chahte hain …
Per kuch kehne se pehle ruk jaate hai …

जब जब तुझे देखती हूँ
मेरी आँखों से आंसु बह जाते हैं
ये कहना तो बहुत कुछ चाहते हैं
पर कुछ कहने से पहले रुक जाते है

Kabhi rulana na apne jigar ke tukde ko …
Bahut dard usse bhi hoga, Tumse dur jaane k baad …

कभी रुलाना ना अपने जिगर के टुकड़े क।
बहुत दर्द उसे भी होगा , तुमसे दूर जाने के बा!


Achcha hua jo mere aansu ke baare mein jana tumne …
Aaj bhi koi kaam se aaye Ho, Jo yaha ka rasta pehchana tumne …

अच्छा हुआ जो मेरे ऑंसू के बारे में जाना तुमने
आज भी कोई काम से आये हो, जो यहाँ का रास्ता पहचाना तुमने

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Social Share Buttons and Icons powered by Ultimatelysocial
Pinterest
Linkedln
Instagram