kundali bhagya status shayari

MERI MAUT MERI ZINDGI SE JEET GAYI ,
MUJHE DUKH APNE MARNE KA NAHI,
MUJHE DUKH MERE APNO KE HATHO MARNE KA HAI,

मेरी मौत मेरी ज़िंदगी से जीत गयी ,
मुझे दुःख अपने मरने का नहीं ,
मुझे दुःख मेरे अपनों के हाथो मरने का है ..

 

AAAPKE PAAS 100 WAJAH HONGI MUJHSE NAFRAT KARNE KE LIYE
LEKIN MERE PAAS EK BHI WAJAH NAHI HAI …

आपके पास १०० वजह होगी मुझसे नफरत करने के लिए ..
लेकिन मेरे पास एक भी वजह नहीं है …

KABHI KABHI AISA HOTA HAI ….
JIS KISI KE SATH HAM JAYADA WAKT GUZAARTE HAI ..
USKE SATHEK UNKAHA BENAAM RISHTA JUD JAATA HAI
LEKIN YE UNRISHTON KE SAMNE KAMZOR PAD JAATE HAI …
JINKE NAAM HOTE HAI JINHE sAMAJ BANATA HAI ..

कभी कभी ऐसा होता है ..
जिस किसी के साथ हम जयादा वक्त गुज़रते है ..
उसके साथ एक अन कहाबेनाम रिश्ता जुड़ जाता है ..
लेकिन ये उन रिश्तों के सामने कमज़ोर पड़ जाते है
जिनके नाम होते है , जिन्हे समाज बनाता है

HAM SAMAJH NAHI PAAYE KE HAM EK DUSRE KE LIYE KYA HAI ..
AUR JAB TAK MEIN SAMAJH PATA ,
TAB TAK SAB KUCH BADAL GYA …

हम समझ नहीं पाए की हम एक दूसरे के लिए क्या है ..
और जब तक में समझ पता ,,
तब तक सब कुछ बदल गया ..

DIL KO SAMJHANE KE BAAD DIMAAG KO SAMJHANA AASAN HO JATA HAI ..

दिल को समझने के बाद दिमाग को समझाना आसान हो जाता है ..

 

AAPSE DUR JAANE KE BAAD PTA CHALA KE AAPKE APNE HI AAPKE DUSHMAN HAI ..

आपसे दूर जाने के बाद पता चला के आपके अपने ही आपके दुश्मन है ..

PYAR KARNA TO TUMHI NE SIKHAYA HAI NA .. TO FIR MEIN TUMSE NAFRAT KAISE KARTA ….

प्यार करना तो तुम्ही ने सिखाया है ना ..तो फिर तुमसे नफरत कैसे करता ..

SATH REHKAR BHI KYA KIYA TUMNE …
TUMNE BHI TO DHOKHA HI DIA HAI NA MUJHE ….

साथ रहकर भी क्या किआ तुमने ..
तुमने भी तो धोका ही दिआ है ना मुझे ..

MEIN APNE DIL SE KEHTA KUCH HU AUR YE KARTA KUCH HAI ..
JISPER MEIN BHAROSA KARNE SE MNA KARTA HU YE ..USSI PER BHAROSA KARTA HAI ..

में अपने दिल से कहता कुछ और हु और ये करता कुछ और है ..
जिसपर में भरोसा करने से मना करता हु ये , उसी पर भरोसा करता है ..

 

RAAT KO DEKHE GAYE SAPNE …
NEEND KHULNE SE PEHLE BHUL JAANE CHAHIYE …

रात को देखे गए सपने ..
नींद खुलने से पहले भूल जाने चाहिए ..

KHA CHALE GAYE THE TUM..
PTA HAI HAR PAL KITNA DHUNDHA HAI TUMHE …

खा चले गए थे तुम ..
पता है हर पल कितना धुनधा है तुम्हे

AAKHIR APNE DIL KA KYA KARUU…
KAISE USSE APNE SE ALAG KAR DU …

आखिर अपने दिल का क्या करू ..
कैसे उससे अपने दिल से अलग कर दू ..

MUJHE TUMSE NAFRAT THI ,
AUR HAMESHA RAHEGI ..

मुझसे तुमसे नफरत थी ..
और हमेशा रहेगी …

JISKI SHAKAL BHI NAHI DEKHNA CHAHTI BAAR BAAR USKA KHAYAL KU AAT AHAI …

जिसकी शकल भी नहीं देखना चाहता .
बार बार उसका ख्याल को आ ता है ..