dard bhari shayari

Akhir khush ho gaye tum ,
Mere dil ko dukha kar ..

आखिर खुश हो गए तुम ,
मेरे दिल को दुख कर ///
===========================
Bewajah tujhse pyar ho gya ,
agar jaan lete tere baare mein ..
to aaj yun apni nazron se gire na hote ham..

बेवजह तुझसे प्यार हो गया .
अगर जान लेते तेरे बारे में ..
तो आज यूँ अपनी नज़रों से गिरे ना होते हम …

==========================================
gumaan karti thi aapne aap per kabhi mein bhi ..
ke mera hamsafar sirf mera hai ..
guroor bhi tut gya , aur gumaan bhi ..
jab uske hatho apne dil do tutta hua dekha maine ..

गुमान करती थी अपने आप पर में भी ..
के मेरा हमसफ़र सिर्फ मेरा है ..
गुरूर भी टूट गया .. और गुमान भी ..
जब उसके हाथो अपने दिल को टूट ता हुआ देखा मैंने..

================================================
fursat se karna tu ab dillagi … kisi aur ke sath ..
mein bhi na jaane ku uss manzil per chal rahi thi .. jiske raaste alag the ..

फुर्सत से करना तू अब दिल्लगी …किसी और के साथ ..
में भी ना जाने को उस मंज़िल पर चल रही थी .. जिसके रास्ते अलग है ..
==========================================================================
kehkar bhi kuch keh na paayi tujhse ..
meri aankhe padhi hoti , to dard bhi dikh jata tujhko …
कहकर भी कुछ कह ना पायी तुझसे …
मेरी आँखे पढ़ी होती तो दर्द भी दिख जाता तुझको ..
==========================================================
Beshak teri mohabbat jhuti thi ..
Per gunahgaar tujh se jayada mein nikli tera sath dekar …
बेशक तेरी मोहब्बत झूठी थी …
पर गुनहगार तुझसे जयादा में निकली तेरा साथ देकर …
============================================================
Laut Anne ka koi raasta nahi hai ab …
jo beet gya usse bhul jana chahti hu mein abb..

लौट आने का कोई रास्ता नहीं है अब ..
जो बीत गया .. उससे भूल जान चाहती हु में अब ..
==============================================================
samajh lungi meri taqdeer mein pyar nahi tha..
jiskisi se bhi kiya dard ke siwa kuch na mila …

समझ लुण्डि मेरी तक़दीर में प्यार नहीं था …
जिस किसी से से भी किआ दर्द के सिवा कुछ ना मिला ..
===================================================
kya karu tujhe yaad rakhkar ,
teri har kasam jhuthi bhi to nikli ..
क्या करू तुझसे याद रखकर …
तेरी हर कसम झूठी भी तो निकली ..