Bewafa Shayari

KYA KAHE BEWAFA TUM BHI NAHI , HUM BHI NAHI ,
WAQT KE HAATHO TUM BHI MAJBUR THE, AUR HAM BHI.

क्या कहे बेवफा हम भी नहीं तुम भी नहीं !
वक्त के हाथो तुम भी मजबूर थे और हम भी !

ISS HAD TAK TUJHE PYAR KARUNGI , KE JAHA SE TU MUJHE KABHI BHUL NA PAAYE ,
HUM BHI TO DEKHE , KE KITNI BEWAFAI HAI TERE DIL MEIN MERE LIYE .
इस हद तक तुझे प्यार करुँगी के जहाँ से तू मुझे कभी भूल न पाए !
हम भी तो देखे , के कितनी बेवफाई है तेरे दिल में मेरे लिए !
MERE MEHBOOB THE TUM , DIL KE BHOT KAREEB THE TUM ,
FIR KYA HUA EK PAL MEIN , JO HAMSE IS KADAR DUR HUE TUM .

मेरे मेहबूब थे तुम , दिल के भोत करीब थे तुम ,
फिर क्या हुआ एक पल में , जो हमसे इस कदर दूर हुए तुम !

TALAB YE ISHQ KI MIT TI NAHI , KE JAAN DEKE BHI TERI YAAD DIL SE JAATI NAHI ,
तलब ये इश्क़ की मिट ती नहीं , के जान देके भी तेरी याद दिल से जाती नहीं !
KHUDA KO BHI PTA LAG JAYEGA MERE PYAR KI KAHANI SACHCHI THI  YA USKI BEWAFAI KI MAJBURI.
खुदा को भी पता लग जाएगा , मेरे प्यार की कहानी सच्ची थी या उसकी बेवफाई की मज़बूरी!
MAJBUR HUE HUM APNE HI KHATIR , BEWAFAI KARNI PADI BINA MAJBURI KE.
मजबूर हुए हम अपने ही खातिर , बेवफाई करनी पड़ी , बिना मज़बूरी के !
HAME HAMARI KHATA KA  MATLAB BTA DENA ,
JO YE BEWAFAI KI USKI WAJAH BHI BTA DENA .
हमें हमारी खता का मतलब बतया देना ,
जो ये बेवफाई की उसकी वजह भी बता देना ?
 

2 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *