0

Love shayari

Jab jab aankhein band karta hu ,
Na jaane ku tera khayal aata hai ,
Kash tere dil ki aawaz ko mein sun saku ,
Mera bhi dil bas yahi chahta hai ..

जब जब आखें बंद करता हु !
न जाने क्यों तेरा ख्याल आता है !
काश तेरे दिल की आवाज को में सुन सकू !
मेरा दिल भी बस यही चाहता है !

====================================

Pyar lafzon se nahi hua karta janab ,
Wakt bhi dena hota hai kabhi kabhi.

प्यार लफ़्ज़ों से नहीं हुआ करता जनाब !
वक्त भी देना होता है कभी कभी !

===================================


Chand sitaron se kya puchna ,
Mujhe is zamane se ky apuchna ,
Mere dil ki awaj us tak pahucha de koi ,
Ek baar ha vo karde ,
To uske gharwalon se kya puchna .

चाँद सितारों से क्या पूछना ,
मुझे इस ज़माने से क्या पूछना ,
मेरे दिल की आवाज़ पंहुचा दे कोई ,
एक बार वो है करदे ,
तो उसके घरवालों से क्या पूछना ,

==========================================

Na aaya karo achanak hamare saamne,
Tume dekhte hi dil dhadakna band kar deta hai ,
Saanse ruk jaati hai,
Kyo ki ye bas tumko tahe dil se chahti hai .

ना आया करो अचानक हमारे सामने ,
तुम देखते ही दिल धड़कना बंद कर देता है ,
साँसे रुक जाती है ,
क्यों की ये बस तुमको तहे दिल से चाहती है ,

===============================================


Ye chand ye taare bhula dena,
Is dharti se aasman mita dena ,
Ye pyar ki toheen kar rahe ho tum meri ,
Ho sake to mohabbat ka aakhri jaam hamko pila dela.

ये चाँद ये तारे भुला देना ,
इस धरती से आसमान मिटा देना ,
ये प्यार की तोहीन कर रहे हो तुम मेरी ,
हो सके तो मोहब्बत का आखरी जाम हमको पीला देना ,
==================================================


Mere lafz keh rahe hai bol du ,
Sharm ka parda mein khol du ,
kahi tum kisi aur ki na ho jaao ,
pyar tumse karta hu socha ke ab bol du .

मेरे लफ्ज़ कह रहे है बोल दू ,
शर्म का पर्दा खोल दू ,
कही तुम किसी और की न हो जाओ ,
प्यार तुमसे करता हु सोचा के अब बोल दू ,

================================================


Haqeeqat ka parda ku chupana,
Mohbbat karte ho to ku iss zamane se chupana,

हकीकत का पर्दा को छुपाना ,
मोहब्बत करते हो तो क्यों इस ज़माने से छुपाना ,
=================================================

Wakt bhi ruk gya hai tumko dekh kar ,
Vo bhi chahta hai aisa wakt kisi aur k liye na ho ,
Jisme keval didaar bhi mein karu
Aur tumse pyar bhi mein karu.

 

वक्त भी रुक गया है तुम को देख कर,
वो भी चाहता है ऐसा वक्त किसी और के लिए न हो ,
जिसमे केवल दीदार भी में करू ,
और तुमसे प्यार भी में करू ,

========================================================


Ae zindgi Mujhe itna bta de ,
Kha hai mera mehboob mujhe usse mila de ,

ऐ ज़िंदगी मुझे इतना बता दे ,
कहाँ है मेरा मेहबूब मुझे उससे मिला दे ,
=======================================================

bhut taqleef hoti hai jab mera pyar ek din ke liye bhi mujhse dur hota hai,
wakt ke hatho ham majbur ho jate hai kabhi kabhi,jab aapka suroor hota hai.

बहुत तकलीफ होती है जब मेरा प्यार एक दिन के लिए भी मुझसे दूर होता है ,
वक्त के हाथो मजबूर हो जाते है कभी कभी , जब आपका सुरूर होता है ,

==========================================================


kash vo pal paida hi na ho ,
jisme tu aur teri yaad na ho ,

काश वो पल पैदा ही न हो,
जिसमे तू और तेरी याद ना हो !
=======================================================

pyar ko logo ne khel bna dala,
achcha khasa tha use ,majburi bna dala,
aaj kal kha milta hai aisa pyar dekhne ko ,
zamane ne is pyar ko lachar bna dala.

प्यार को लोगो ने खेल बना डाला !
अच्छा खासा था उसे मज़बूरी बना डाला !
आज कल खा मिलता है ऐसा प्यार देखने को !
ज़माने ने इस प्यार को लाचार बना डाला !

========================================================

Tadapta hai dil jab baat nahi hoti ,
Rota hai dil jab tu pass nahi hoti ,
Kaise bataaein kitni khaas hai tu mere liye ,
Agar ye khuda samajh jata to meri khawaish aaj puri hoti .

तड़पता है दिल जब बात नहीं होती ,
रोटा है दिल जब तू पास नहीं होती ,
कैसे बताये कितनी खास है तू मेरे लिए ,
अगर ये खुदा समझ जाता तो मेरी खवाइश आज पूरी होती !

=========================================================


TUJHKO DEKHTE DEKHTE NA JAANE KU PYAR HOGYA ,
DIL TO PAGAL THA AB LACHAR BHI HO GYA ,
IS KADAR APNI AAKHEIN NA DIKHAYA KARO KISI KO ,
KE FIR KOI AUR DEKHE AUR DUB JAAYE INME HAMARI TARAH.

तुझको देखते देखते ना जाने को प्यार हो गया ,
दिल तो पागल था अब लचर हो गया ,
इस कदर ना अपनी आखें दिखाया करो किसी को ,
के फिर कोई और देखे और दुब जाए इनमे हमारी तरह !

 

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *