2

Dhoka Shayari

 

 

 

Fursat mein yaad karna ho to kabhi na karna , ham tanha zarur hai Magar Fazul nahi . फुर्सत में याद करना हो तो कभी न करना , हम तनहा ज़रूर है मगर फज़ुल नहीं . =====================================================================================

Mat puchh kaise guzar rhi hai zindagi, Zindagi aise guzar rhi hai jese guzar hi nahi rhi
मत पूछ कैसे गुज़र रही है ज़िन्दगी, ज़िन्दगी ऐसे गुज़र रही है जैसे गुज़र ही नहीं रही?

Mohabbat jitni mili saari baant di duniya waalon ko , 
Jab maine jholi felai to kisi ne dard ke siwa kuch na dia .
मोहब्बत जितनी मिली सारी बाँट दी दुनिया वालों को , 
जब मैंने झोली फैलाई तो किसी ने दर्द के सिवा कुछ न दिए .
=======================================================================================================

============



usse mein tab hi yaad aata hu jab uske paas koi nahi hota .
उससे में तब ही याद आता हु जब उसके पास कोई नहीं होता .
======================================================================================================



mein ku pukaru usse ki laut aao ,
kya usko khabar nahi hai ki kuch nahi hai mere pass uske siwa,
में क्यों पुकारू उससे की लौट आओ ,
क्या उसको खबर नहीं है की कुछ नहीं है मेरे पास उसके सिवा,

=====================================================================================================


juth bolne se kya faaeda , 
jab jana hi tha to , 
bahane banane ki kya zarurat thi ,
जूथ बोलने से क्या फायदा , 
जब जाना ही था तो , 
बहाने बनाने की क्या ज़रूरत थी ,
==================================================================
bhagwan mujhe please aise logo se mat milaao , jo sirf apna matlab nikalna jaanta ho
भगवान मुझे प्लीज ऐसे लोगो से मत मिलाओ जो सिर्फ अपना मतलब निकलना जानता हो . 
======================================================================================================
 



kisi ke liye rona bekar hai ab to ,
log to apna matlab nikal kar chale jaate hai .
किसी के लिए रोना बेकार है अब तो ,
लोग तो अपना मतलब निकाल कर चले जाते है .
======================================================================================================


aakhir tune dikha hi di apni aukaat,
ja tujhe aazad karte hai ham,
आखिर तूने दिखा ही दी अपनी औकात,
जा तुझे आज़ाद करते है हम,
========================================================================================================
sochta hu jab tere baare mein , to sirf ik cheez mili thi hame tujhse pyar karne ke baad, 
aur vo tha sirf dhoka.
सोचता हु जब तेरे बारे में , तो सिर्फ इक चीज़ मिली थी हमें तुझसे प्यार करने के बाद, 
और वो था सिर्फ धोका.
 ======================================================================================================
aksar mein logo ko apna bna leta hu ,
 pal bhar me mein apna sab kuch bta deta hu ,
 yun to logo ki insaniyat to dekho ,
 sab kuch sunkar fir sath chor jaate hai .
अक्सर में लोगो को अपना बना लेता हु ,
 पल भर में में अपना सब कुछ बता देता हु ,
 यूँ तो लोगो की इंसानियत तो देखो ,
 सब कुछ सुनकर फिर साथ छोर जाते है .
=================================================================================================

zindgi mein na jaane aur kitne sitam milenge ,
meri guzarish hai mere khuda se ke ham apas mein kab milenge.
ज़िंदगी में न जाने और कितने सितम मिलेंगे ,
मेरी गुज़ारिश है मेरे खुदा से के हम आपस में कब मिलेंगे.
==================================================================
jis naam se mohabbat karte the , ab to us naam se hame nafrat hone lagi hai,
जिस नाम से मोहब्बत करते थे , अब तो उस नाम से हमें नफरत होने लगी है,
 

shikwa nhi k tu bhi badal jaayegi , hame to mousam ne bta dia tha , 
ke tera haal ab thik nhi hai .
शिकवा नहीं क तू भी बदल जायेगी , हमें तो मौसम ने बता दिए था , 
के तेरा हाल अब ठीक नहीं है 
================================================================================================
 

Arrrre kuch to insaaniyat rakhi hoti , To yun 
Tum do kashtiyo mein sawar na karr rahe hote.
अरे कुछ तो इंसानियत राखी होती , तो यूँ 
तुम दो कश्तियो में सवार न कर रहे होते.
==============================================================================================


 Maine to socha ke tu mujhe bhot pyar karti hai ,
 Per ab maloom hua ,
 ke ye pyar nhi sirf ek dhoka tha .
मैंने तो सोचा के तू मुझे भोत प्यार करती है ,
 पर अब मालूम हुआ ,
 के ये प्यार नहीं सिर्फ एक धोका था .

 ==================================================================
 

admin

2 Comments

  1. Ik vaqt that jab ru MERI dhadakan hua krti thi AJ ye vaqt hai ki na sath Tu hai na dhadkan

     

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *