2

Judai Shayari

MOHABBAT KA NAAM HI JHUTA HAI ,
SACHCHHAI KA EHSAAS TO AB TUTA HAI ,
GAYE HO JAB SE TUM RUTH KAR MUJHSE,
TUM HI KYA MERA TO SATH MERE KHUDA SE BHI TUTA HAI
मोहब्बत का नाम ही झूठा है !
सचाई का एहसास तो अब टुटा है !!
गए हो जब से तुम रूठ कर मुझसे !
तुम ही क्या मेरा तो साथ मेरे खुदा से भी टुटा है !!

 

Teri saanso se hi meri saanse Judi hai , jo kabhi tera sath chhut jayega, meri sanse bhi tabhi tut jaayengi.
======================================================================
TUJHSE JUDA HOKAR JANA,
KITNA AASAN HAI KISI KE DIL KO DUKHANA.
तुझसे जुदा होकर जाना !
कितना आसान है किसी के दिल को दुखाना !!
AB JO DUR HUE HO HAMESE ,
KOSHISH KARNA KABHI NA MILE HAM ,
ZINDGI MEIN FIR SE .
अब जो दूर हुए हो हमसे !
कोशिश करना कभी न मिले हम !!
ज़िंदगी में फिर से !!
AB TO JUDAI KA AISA ALAM HAI ,
WAKT KAT TA BHI NAHI ,
AUR WAKT KATNA BHI HAI TERE BAGAIR.
अब तो जुदाई का ऐसा आलम है !
वक्त काट ता भी नहीं !!
और वक्त काटना भी है तेरे बगैर !!
KHAMOSHI KA MATLAB YE NA SAMAJHNA ,
TUJHSE DUR HUE HAI TERI ZINDGI SE NAHI ,
ख़ामोशी का मतलब ये न समझना !
तुझसे दूर हुए तेरी ज़िन्दगी से नहीं !!
AWAJ DENA HAME DOST SAMAJHKAR ,
BHULA NA DENA EK FARIYAD SAMAJHKAR.
आवाज देना हमें दोस्त समझकर !
भुला न देना एक फरियाद समझकर !!
AB SATH JO TUTA TUJHSE , DIL KO RAHAT MIL GAYI TAB SE .
 अब साथ जो टुटा तुझसे , दिल को राहत मिल गयी तब से !
JAB SE DUR LAGE HO REHNE ,
DEKHO ASHQ LAGE HAI BEHNE.
जब से दूर लगे हो रहने !
देखो अश्क़ लगे है बहने !!
BINA TERE YE ZINDGI CHAL TO RAHI HAI ,
EK ZINDA LASH KI TARAH.
बिना तेरे ये ज़िंदगी चल तो रही है !
एक ज़िंदा लाश की तरह !!
PARWAH HOTI AGAR TUJHKO MERI ,
TO EK BAAR MUJHSE PUCH BHI LIYA HOTA ,
KE JAA RHA HU , AB TUM APNA KHAYAL RAKHNA.
परवाह होती अगर तुझको मेरी !!
तो एक बार मुझसे पूछ भी लिया होता !
के जा रहा हु , अब तुम अपना ख्याल रखना !!
ZINDGI THAM SI GAYI HAI TERE JAANE KE BAAD ,
AB HAR PAL AATI HAI BAS TUMHARI HI YAAD .
ज़िंदगी थम सी गयी है तेरे जाने के बाद !
अब हर पल आती है बस तुम्हारी ही याद !!
 MOHABBAT KA NAAM HI JHUTA HAI ,
SACHCHHAI KA EHSAAS TO AB TUTA HAI ,
GAYE HO JAB SE TUM RUTH KAR MUJHSE,
TUM HI KYA MERA TO SATH MERE KHUDA SE BHI TUTA HAI
मोहब्बत का नाम ही झूठा है !
सचाई का एहसास तो अब टुटा है !!
गए हो जब से तुम रूठ कर मुझसे !
तुम ही क्या मेरा तो साथ मेरे खुदा से भी टुटा है !!
 

admin

2 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *